21 Sep 2012

रिश्ते बड़े अजीब

1. लहरों की ज़िद पर क्यों  अपनी शक़्ल बदल लेतीं है ,
दिल जैसा कुछ होता होगा शायद इन चट्टानों में।


2. पत्थर से आदमी के हैं रिश्ते बड़े अजीब,
किसी ने मारी ठोकर , और कोई जल चढ़ा गया।


3. अहदे हाज़िर में शराफ़त नहीं जीने देगी,
फूल इक हाथ में, इक हाथ में पत्थर रखना।
 

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...