18 Aug 2017

आए तो यूँ कि जैसे

आए तो यूँ कि जैसे हमेशा थे मेहरबान

भूले तो यूँ कि गोया कभी आश्ना  थे

14 Jun 2016

तेरे अरमां

चलो अच्छा हुआ, जो तुम मेरे दर पे
नहीं आए , तुम झुकते नहीं, और मै
चौखटें ऊंची कर नही पाता …

*******

समेट कर रखे ये कोरे पन्ने एक रोज
बिखर जाएंगे …
जिंदगी तेरे किस्से खामोश रहकर
भी बयां हो जाएंगे…

*******

कोई अजनबी ख़ास हो रहा है,
लगता है फिर प्यार हो रहा है !!

*******

वो तूफ़ान है या ज़लज़ला है,
जो भी है है बड़ा दिलजला है ।

*******

मेरी फितरत ही कुछ ऐसी है कि,
दर्द सहने का लुत्फ़ उठाता हु मैं…

*******

“हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते …..
वक़्त की शाख़ से लम्हें नहीं तोड़ा करते”

*******

मैंने पूछा लोग कब चाहेंगे, मुझे
मेरी तरह……
बस मुस्कुरा के कह दिया सवाल अच्छा है….!!

*******

उसने यह सोचकर अलविदा कह
दिया……
गरीब लोग हैं, मुहब्बत के सिवा क्या देँगे…..!!

*******

न करवटे थी न बेचैनियाँ थी,,
क्या गजब की नीँद थी मोहब्बत से पहले…

*******

मैं क्या महोब्बत करूं किसी से, मैं तो गरीब हूँ….
लोग अक्सर बिकते है, और खरीदना मेरे बस में नहीं….

*******

अब तो इन आँखों से भी जलन होती है मुझे…
खुली हो तो ख्याल तेरे!
बंद हो तो ख़्वाब तेरे!..

*******

मेरी आँखों को सुर्ख़ दैख कर केहते हे लौग,,

लगता हे…तेरा प्यार तुझे आज़माता बहुत हे..

*******

सबब तलाश करो…..अपने हार जाने का,,

किसी की जीत पर रोने से कुछ नहीं होगा..

*******

लेकर के मेरा नाम मुझे कोसता तो है,
नफरत ही सही, पर वह मुझे सोचता तो है…

*******

खुद को खुद की खबर न लगे
कोई अच्छा भी इस कदर न लगे….

आपको देखा है उस नजर से
जिस नजर से आपको नजर न लगे ..

*******

छुपा लूंगा तुझे इस तरह से मेरी बाहों में;
हवा भी गुज़रने के लिए इज़ाज़त मांगे;
हो जाऊं तेरे इश्क़ में मदहोश इस तरह;
कि होश भी वापस आने के इज़ाज़त मांगे।

*******

पूछते थे ना कितना प्यार है हमें तुम से

लो अब गिन लो… ये बूँदें बारिश की…

*******

इस कदर उधार लेके खाया है मेने,,,कि दुकानदार भी हमारी जिंदगी की दुआ करते हैं…

*******

घर में तो अब क्या रक्खा है ! वैसे आओ तलाश करें,
शायद कोई ख्व़ाब पड़ा हो इधर उधर किसी कोने में…

*******

तेरे प्यार में हुनर आ गया है
वकीलों सा,

मुझसे मिलने की
तारीख पर तारीख दिए जाते हो …

*******

रोक कर बैठे हैं कई समंदर आँखों में
दगाबाज़ हो सावन तो क्या…
हम खुद ही बरस लेंगे…

*******

हो गई हो कोई भूल, तो दिल से माफ़ कर देना….
सुना है कि, सोने के बाद, हर किसी की सुबह नहीं होती..!!

*******

तम्मन्ना है की कोई हमारी सख्शियत से भी प्यार करे।

वरना हैसियत से प्यार तो तवायफ़े भी करती हैं।

*******

दिल है कदमों पे किसी के सर झुका हो या न हो,
बंदगी तो अपनी फ़ितरत है, ख़ुदा हो या न हो।

*******

यूँ तो सिखाने को ज़िन्दगी बहुत कुछ सिखाती है…!!

मगर ,,
झूठी हंसी हँसने का हुनर तो बस मोहब्बत ही सिखाती है…!!

*******

मैँ कैसा हूँ’ ये कोई नहीँ जानता,

मै कैसा नहीँ हूँ’

ये तो शहर का हर शख्स बता सकता है…

*******

एक तेरे बगैर ही ना गुज़रेगी ये जिंदगी….
बता मैँ क्या करूँ सारे ज़माने की मोहब्बत लेकर॥

*******

जेबका वजन बढाते हुए
अगर दिलपे वजन बढे….
तो समझ लेना
कि सौदा घाटेका ही है..!

*******

उस्ताद ए इश्क सच कहा तूने.,
बहुत नालायक हूँ मै…
मुद्दत से इक शख्स को अपना बनाना नही आया.

*******

“कुछ लोग दुनिया से डर कर फैसले छोड़ देते हैं ,
और कुछ लोग हमारे फैसले से डर कर
दुनिया छोड़ देते हैं…!!

*******

चांद रोज़ छत पर आकर इतराता बहुत था,
कल रात मैंने भी उसे तेरी तस्वीर दिखा दी.

*******

हम ना कहते थे वक्त ज़ालिम है,

देखलो ! ख़्वाब हो गए तुम भी।

*******

औरों के लीए जीते थे, कीसी को कोई शीकायत न थी।
अपने लीए जीने का क्या सोचा, सारा ज़माना दुश्मन हो गया…

*******

कितनी छोटी सी दुनिया है मेरी,
एक मै हूँ और एक दोस्ती तेरी…!!

*******

रात भारी सही कटेगी ज़रूर बापु,
दिन कडा था, मगर गुज़र के रहा..

*******

वो दुआएं काश मैने दीवारों से मांगी होती,,
ऐ खुदा……
सुना है कि उनके तो कान होते है…

*******

तुम्हारे ख्वाबों को गिरवी रखके…

तकिये से रोज़ रात थोड़ी नींद उधार लेता हु..

*******

शायरी मेरा शौक नहीं….
ये तो मोहोब्बत की कुछ सज़ाएं हैं…

*******

पलकें खुली सुबह तो ये जाना हमने,
मौत ने आज फिर हमें ज़िन्दगी के हवाले कर दिया.!

*******

हर बार मिली है मुझे अनजानी सी सज़ा,

मैं कैसे पूछूं तकदीर से मेरा कसूर क्या है।

*******

नरम नरम फूलों का रस निचोड़ लेती है..
पत्थर के दिल होते है तितलियों के सीने में…

*******

अजीब सी बेताबी है तेरे बिना,
रह भी लेते है और रहा भी नही जाता…

*******

“जाने क्यों रिश्तों में जज्बात बदल जाते हैं.
कभी लोग तो कभी हालात बदल जाते हैं.”

*******

लोग जाते हे मंदीर मस्जीद, दुआ मांगने राम से,
जनमदीन हो मुबारक, तु मीला हमे साकी जाम से |

*******

दुअा करो कि सलामत रहे मेरी हिम्मत,
यह एक चिराग कई आंधियो पर भारी है !!

*******

ना इश्क़ हार मानता

और ना ही दिल बात मानता

क्यों नहीं तुम ही मान जाते,,,,

*******

“टूट जाऊँ मोहब्बत में या फिर टूट कर मोहब्बत करुँ….
इस बार मेरे पास बस इक यहीं रास्ता हैं..”

*******

सिगरेट के साथ बुझ गया सितारा शाम का,
मयखाने पुकारे.. ग्लास की उम्र होने आई है…

*******

9 Jun 2016

जख्म

खूब करता है, वो मेरे ज़ख्म का इलाज......
कुरेद कर देख लेता है, और कहता है वक्त लगेगा..!!!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...